youthutility header image



Saturday, July 22, 2017

On Saturday, July 22, 2017 by Valferdo Vips   No comments


राहुल अरोड़ा जो की चरस डीलर होने के साथ-साथ एक देह व्यापारी भी था, वो इस धंधे के लिए मासूम लडकियों को फसाता था और इस बार उसने दिल्ली की सागरपुर में रहने वाली 12वी कक्षा की छात्रा श्वेता को फसा लिया था पर इसेसे पहले की वो कुछ कर पाता श्वेता उसके बारे में सब कुछ जान चुकी थी.
 
इसलिए राहुल ने उसे 5 सितम्बर 2016 को उसके ही घर में उसे मार दिया और फंदे पर लटका कर ऐसे दिखाया की मानो उसने ख़ुदकुशी की है! पर श्वेता के परिवार वालो को ये बात तुरंत समझ आ गयी और इसकी शिकयात उन्होंने पुलिस से भी की पर पुलिस इसे ख़ुदकुशी साबित करने पर ही तुली हुई थी।

 


 

इसमें सबसे बड़ा हाथ था सागरपुर थाने के सब-इन्स्पेक्टर बिरेंदर सिंह यादव का जिसने राहुल को बचाने के लिए लाखो रूपये घूस लिए थे, उसने सबूत मिटाने के लिए जानबूझ कर पोस्टमार्टम कराने में देरी लगायी.
 
मौका-ए-वारदात की जानकारी लिखने में भी भारी गड़बड़ी की और श्वेता से बरामद फ़ोन से भी छेडछाड की।
 
FIR दर्ज ना होने के कारण परिवार वालो ने अदालत का दरवाज़ा खटखटाया है उन्होंने 27 नवम्बर को सुनवाई की तारीख दी है,
 
अब देखना है की इस भ्रष्ट पुलिस वाले की जीत होगी या इन्साफ मिलेगा श्वेता को।
Reactions:

0 comments:

Post a Comment